मैं क्यों हारूँगा किस्मत से
जबकि मुझे ये ऐतबार है
मेरी हर हार मैं छिपी
खुदा तेरी भी हार है

Advertisements